मानवता

बिन मानवता के मानव भी, पशुतुल्य रह जाता है

मानवता एक दरिद्र ब्राह्मण यात्रा करते-करते किसी नगर से गुजर रहा था, बड़े-बड़े महल एवं अट्टालिकाओं को देखकर ब्राह्मण भिक्षा माँगने गया, किन्तु उस नगर मे किसी ने भी उसे दो मुट्ठी अन्न नहीं दिया। Something Happened on the Way to Heaven ➖आखिर दोपहर हो गयी ,तो ब्राह्मण दुःखी होकर अपने भाग्य को कोसता हुआ …

बिन मानवता के मानव भी, पशुतुल्य रह जाता है Read More »