मोक्ष

मुक्ति

हम चिल्लाते रहते हैं मुक्ति चाहिए, और हम उन्हीं बंधनों की पूजा भी करते रहते हैं!

मुक्ति एक सराय में अतिथि पहुंचा। सराय में पहुंचते ही उसे एक बड़ी मार्मिक और दुख भरी आवाज सुनाई पड़ी। पता नहीं कौन चिल्ला रहा था? पहाड़ की सारी घाटियां उस आवाज से…लग गई थीं। कोई बहुत जोर से चिल्ला रहा था–स्वतंत्रता, स्वतंत्रता, स्वतंत्रता।वह अतिथि सोचता हुआ आया, किन प्राणों से यह आवाज उठ रही …

हम चिल्लाते रहते हैं मुक्ति चाहिए, और हम उन्हीं बंधनों की पूजा भी करते रहते हैं! Read More »

पुण्य की राह

“पुण्य की राह”

पुण्य की राह एक बार की बात है एक बहुत ही पुण्य व्यक्ति अपने परिवार सहित तीर्थ के लिए निकला। कई कोस दूर जाने के बाद पूरे परिवार को प्यास लगने लगी। ज्येष्ठ का महीना था आस- पास कहीं पानी नहीं दिखाई पड़ रहा था। उसके बच्चे प्यास से ब्याकुल होने लगे, समझ नहीं आ …

“पुण्य की राह” Read More »

गोविंदा

जो गोविंदा नाम को पुकारेगा, उन सभी श्रद्धालुओं को मैं मोक्ष दूंगा!

गोविंदा यह एक अत्यंत रोचक घटना है, महालक्ष्मी की खोज में भगवान विष्णु जब भूलोक पर आए, तब यह सुंदर घटना घटी । भूलोक में प्रवेश करते ही, उन्हें भूख एवं प्यास यह मानवीय गुण प्राप्त हुए, भगवान श्री निवास ऋषि अगस्त के आश्रम में गए और बोले, “मुनिवर मैं एक विशिष्ट मुहिम से भूलोक …

जो गोविंदा नाम को पुकारेगा, उन सभी श्रद्धालुओं को मैं मोक्ष दूंगा! Read More »