Religion(धर्म)

अधिक मास

“अधिक मास 18 सितंबर से”

15 दिन रहेंगे शुभ योग और मुहूर्त, 9 दिन तक रहेगा सर्वार्थसिद्धि योग और 2 दिन रहेगा – पुष्य नक्षत्र का संयोग। “अधिक मास में विष्णु मंत्रों का जाप विशेष लाभकारी” :~ || 18 सितंबर से शुरू हो रहे अधिक मास में 15 दिन शुभ योग रहेंगे। शुक्रवार, उत्तराफाल्गुनी नक्षत्र और शुक्ल योग में शुरू …

“अधिक मास 18 सितंबर से” Read More »

Best Education

Ramayana Gives the Best Education to Live Life

Best Education Om Namo NarayanLord Rama was 14 years in exile, then his wife mother Sita also gladly accepted exile. But how did Lakshman Ji, who was serving his elder brother since childhood, escape from Ram Ji! He had taken orders from Mother Sumitra, to travel to the forest… But when the wife was moving …

Ramayana Gives the Best Education to Live Life Read More »

कान्हा और महादेव

जहाँ कान्हा और महादेव पहली बार मिले

कान्हा और महादेव जिस समय श्रीकृष्ण का जन्म हो रहा था उस समय महादेव समाधि में थे । जब वह जागृत हुए तब उन्हें ज्ञात हुआ था कि नारायण ब्रज में बाल रूप में प्रकट हुये हैं । मन में लालसा आई बाल-रूप के दर्शन की तो चल पड़े महादेव, बनाया महादेव ने जोगी का …

जहाँ कान्हा और महादेव पहली बार मिले Read More »

मृत्युभोज

मृत्युभोज से ऊर्जा नष्ट होती है

मृत्युभोज महाभारत के अनुशासन पर्व में लिखा है कि …..मृत्युभोज खाने वाले की #ऊर्जा_नष्ट हो जाती है।जिस परिवार में मृत्यु जैसी विपदा आई हो उसके साथ इस संकट की घड़ी में जरूर खडे़ हों और तन, मन, धन से सहयोग करेंलेकिन……बारहवीं या तेरहवीं पर मृतक भोज का पुरजोर बहिष्कार करें।महाभारत का युद्ध होने को था, …

मृत्युभोज से ऊर्जा नष्ट होती है Read More »

गोविंदा

जो गोविंदा नाम को पुकारेगा, उन सभी श्रद्धालुओं को मैं मोक्ष दूंगा!

गोविंदा यह एक अत्यंत रोचक घटना है, महालक्ष्मी की खोज में भगवान विष्णु जब भूलोक पर आए, तब यह सुंदर घटना घटी । भूलोक में प्रवेश करते ही, उन्हें भूख एवं प्यास यह मानवीय गुण प्राप्त हुए, भगवान श्री निवास ऋषि अगस्त के आश्रम में गए और बोले, “मुनिवर मैं एक विशिष्ट मुहिम से भूलोक …

जो गोविंदा नाम को पुकारेगा, उन सभी श्रद्धालुओं को मैं मोक्ष दूंगा! Read More »

ईश्वर की कृपादृष्टि

ईश्वर की कृपादृष्टि

ईश्वर की कृपादृष्टि किसी स्थान पर संतों की एक सभा चल रही थी, किसी ने एक घड़े में गंगाजल भरकर वहां रखवा दिया ताकि संतजन को जब प्यास लगे तो गंगाजल पी सकें। 🔶 संतों की उस सभा के बाहर एक व्यक्ति खड़ा था, उसने गंगाजल से भरे घड़े को देखा तो उसे तरह-तरह के …

ईश्वर की कृपादृष्टि Read More »

Ram

Why is the name of Ram bigger than Ram?

Ram-Ram Hanumanji Maharaj became so devoted in the service of Ramji in Ramdarbar that he did not notice the arrival of Guru Vashistha. Everyone got up and greeted them, but Hanumanji could not. Vashistha told Ramji that what punishment should be done for insulting Ram Guru by not greeting him in the filled court. Ram …

Why is the name of Ram bigger than Ram? Read More »

मोक्ष

मोक्ष

मोक्ष एक राजा ने, जिसके कोई औलाद नहीं थी, एक सात मंज़िला महलबनवाया और अपनी सारी दौलत को अलग-अलग मंज़िलों पर फैला दिया। पहली मंज़िल पर कौड़ियाँ,दूसरी मंज़िल पर पैसे,तीसरी पर रुपये,चौथी पर मोहरें,पाँचवीं पर मोती,छठी पर अच्छे-अच्छे हीरे-जवाहरात औरसातवीं पर ख़ुद बैठ गया। शहर वालों को ख़बर दे दी कि जिसको जोमिले ले जाये। …

मोक्ष Read More »

शुभमंगल रथयात्रा

महाप्रभु श्री जगन्नाथजी भगवान की शुभमंगल रथयात्रा

शुभमंगल रथयात्रा महाप्रभु का महा रहस्यसोने की झाड़ू से होती है सफाई…… महाप्रभु जगन्नाथ(श्री कृष्ण) को कलियुग का भगवान भी कहते है…. पुरी(उड़ीसा) में जग्गनाथ स्वामी अपनी बहन सुभद्रा और भाई बलराम के साथ निवास करते है… मगर रहस्य ऐसे है कि आजतक कोई न जान पाया हर 12 साल में महाप्रभु की मूर्ती को …

महाप्रभु श्री जगन्नाथजी भगवान की शुभमंगल रथयात्रा Read More »

मोहन के गोपाल

मोहन के गोपाल

मोहन के गोपाल छोटे-से गांव में एक दरिद्र विधवा ब्राह्मणी रहती थी। छह वर्षीय बालक मोहन के अतिरिक्त उसका और कोई नहीं था।.वह दो-चार भले घरों से भिक्षा मांगकर अपना तथा बच्चे का पेट भर लेती और भगवान का भजन करती थी। भीख पूरी न मिलती तो बालक को खिलाकर स्वयं उपवास कर लेती। यह …

मोहन के गोपाल Read More »

हिंदुस्तान

हिंदुस्तान से अलग होने वाला देश का नाम पाकिस्तान ही क्यों रखा ?

हिंदुस्तान क्या आपको मालूम है असल में “पाकिस्तान” शब्द का जनक सियालकोट का रहने वाला ‘मुहम्मद इकबाल’ था जो कि जन्म से एक कश्मीरी ब्राह्मण था, परन्तु बाद में मुसलमान बन गया था ! और हाँ गौर करने वाली बात ये है कि ये वही मुहम्मद इकबाल है…. जिसने प्रसिद्द सेकुलर गीत …….. “सारे जहाँ …

हिंदुस्तान से अलग होने वाला देश का नाम पाकिस्तान ही क्यों रखा ? Read More »