INDIA not BHARAT (इंडिया नही भारत)

भाषा प्रेम

राष्ट्र प्रेम और भाषा प्रेम में कोई अंतर नहीं

भाषा प्रेम इतिहास के प्रकांड पंडित डॉ. रघुबीर प्राय: फ्रांस जाया करते थे। वे सदा फ्रांस के राजवंश के एक परिवार के यहाँ ठहरा करते थे। उस परिवार में एक ग्यारह साल की सुंदर लड़की भी थी। वह भी डॉ. रघुबीर की खूब सेवा करती थी। अंकल-अंकल बोला करती थी।(भाषा प्रेम) एक बार डॉ. रघुबीर …

राष्ट्र प्रेम और भाषा प्रेम में कोई अंतर नहीं Read More »

इंडिया नही भारत

इंडिया नही भारत

भारत इंडिया कहना गुलामी का प्रतीक,नाम बदलकर भारत करें… भारत या हिंदुस्तान शब्द हमारी राष्ट्रीयता के प्रति गौरव का भाव पैदा करते हैं। यह संशोधन इस देश के नागरिकों की औपनिवेशिक अतीत से मुक्ति सुनिश्चित करेगा। इंडिया से भारत होना हमारे पूर्वजों के स्वतंत्रता संग्राम को न्यायोचित ठहराएगा। देश को उसके मूल और प्रमाणिक नाम …

इंडिया नही भारत Read More »