कोपेश्वर मंदिर

कोपेश्वर मंदिर

कोपेश्वर मंदिर

|| कोपेश्वर महादेव – भगवान शिव का अद्भुत मंदिर ||
|| मंदिर जहा महादेव के क्रोधित रूप की पूजा होती है ||

कोपेश्वर मंदिर महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले के खिद्रपुर में है। यह महाराष्ट्र और कर्नाटक की सीमा पर है। यह सांगली से भी सुलभ है। इसे 12 वीं शताब्दी में शिलाहारा राजा गंधारादित्य ने 1109 और 1178 सीई के बीच बनाया था। यह भगवान शिव को समर्पित है। यह कोल्हापुर के पूर्व में कृष्णा नदी के तट पर प्राचीन और कलात्मक है।

कोल्‍हापुर में स्‍थापित कोपेश्‍वर मंदिर का निर्माण 12वीं शताब्‍दी में हुआ था। यह भोलेनाथ का मंदिर है। कहा जाता है कि यह शिव के उस स्‍वरूप को समर्पित है जब माता सती अपने पिता दक्ष प्रजापति के घर पर यज्ञ में न बुलाए जाने पर भी वहां जाती है और शिवजी का अपमान बर्दाश्‍त न कर पाने पर वह स्‍वयं को अग्नि को समर्पित कर देती हैं।

इस बात की सूचना मिलने पर भोलेनाथ अत्‍यंत क्रोधित होते हैं। उस समय उनके स्‍वरूप को कोपेश्‍वर महादेव के नाम से जाना गया। यह मंदिर भोलेनाथ के उसी स्‍वरूप को समर्पित है। इस मंदिर में आपको नंदी की प्रतिमा देखने को नहीं मिलती। मंदिर की निर्माणशैली अद्भुत है।

जब हम स्वर्ग मंडप में प्रवेश करते हैं, तो यह एक गोलाकार खुलने के साथ आकाश में खुला होता है। आकाश को देखकर एक मंत्रमुग्ध हो जाता है और स्वर्ग को देखने का अहसास हो जाता है, स्वर्ग मंडप नाम को सही ठहराता है।

स्वर्ग मंडप की परिधि में हम भगवान गणेश, कार्तिकेय स्वामी, भगवान कुबेर, भगवान यमराज, भगवान इंद्र आदि की सुंदर नक्काशीदार मूर्तियों के साथ-साथ उनके वाहक जानवरों जैसे मोर, माउस, हाथी आदि को देख सकते हैं।

स्वर्ग मंडप में हम भगवान ब्रह्मा की मूर्तियों को सांभा मण्डप के द्वार की बाईं ओर की दीवार पर देख सकते हैं। केंद्र में हम गिरि गृह में स्थित भगवान शिव कोपेश्वर शिवलिंग को देख सकते हैं और दाहिने हाथ की दीवार की ओर हम भगवान विष्णु की सुंदर नक्काशीदार मूर्ति देख सकते हैं।

तो एक नज़र में हम त्रिदेव ‘ब्रह्मा महेश विष्णु’ देख सकते हैं। मंदिर के दक्षिणी दरवाजे के पूर्व में स्थित एक पत्थर की चौखट पर संस्कृत में एक नक्काशीदार शिलालेख है, जिसे देवनागरी लिपि में लिखा गया है। इसमें उल्लेख है कि 1136 में यादव वंश के राज सिंहदेव द्वारा मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया था |

यह भी पढ़ें: कर्म का सिद्धांत

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *